अस्ताए मणि, छायो अध्यारो
हेमन्त काफ्ले