श्रष्टा नरहे सृजना कहाँ बाँकी रहलाः कवि तुलसी दिवस
हेमन्त काफ्ले अष्ट्रेलिया, भदौ ३०